कुछ मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
आईज़ोल, मिज़ोरम, भारत
अब अपने बारे में मैं क्या बताऊँ, मैं कोई भीड़ से अलग शख्सियत तो हूँ नहीं। मेरी पहचान उतनी ही है जितनी आप की होगी, या शायद उससे भी कम। और आज के जमाने में किसको फुरसत है भीड़ में खड़े आदमी को जानने की। तो भईया, अगर आप सच में मुझे जानना चाहते हैं तो बस आईने में खुद के अक्स में छिपे इंसान को पहचानने कि कोशिश कीजिए, शायद वो मेरे जैसा ही हो!!!


शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2009


Business Ethics

In Changing Perspective


The word 'Ethics' may be defined as moral principle or code of behaviour, i.e., it deals with what is good and what is bad. Business Ethics is the collection of ethical codes for practice during business transaction. According to Mahatma Gandhi ji, "I must confess that I do not draw a sharp line or any distinction between economics and ethics. Economics that hurt the moral well being of an individual or a nation are immoral and therefore sinful. Thus, the economics that permit one country to pray upon another are immoral".

    Barnard (1958) has outlined the moral behaviour as 'Governed by beliefs or feelings of what is right or wrong regardless of self-interest or immediate consequences of a decision to do or not to do specific things under particular conditions'.

    Riesman (1950) has categorised men into three types according to their source of moral direction. First, the tradition directed type, includes the person who follow the social and cultural order in which he/she took births and lives. They almost blindly follow the customs of the society because it is considered wrong to break the tradition. Second, the inner-directed type, includes such persons who get their source of direction early in their life from their elders. Third, the other directed type, includes such persons who took their inspiration from their contemporaries and change their concepts accordingly.

Theory Of Ethics:

    Gupta (1995) observed that there are three basic types of moral theories in the field of ethics. First theory may be known as Utilitarian theory, which suggests that plans and actions should be evaluated by their consequences. The second theory which is based on rights, holds that all people have basic rights such as the right to freedom of conscience, free speech, due process and so on. The third theory, which is based on justice, demands that fairness and equity as well as impartiality guide decision-makers.

Gandhian Thoughts And Business Ethics

    We generally consider Mahatma Gandhi ji as a freedom fighter while he was a social reformer too. His revolutionary thoughts are relevant, even for the third millennium. He always opposed consumerism. According to him, consumerism persuades both the rich and the poor to adopt unethical means. The richer group wants to consume mote and more needlessly while poor may adopt unfair means to satisfy their desires. He mentioned that consumerism and unethicalness are closely related to each other. Once Mahatma Gandhi ji mentioned "In the new millennium also, there will be enough for everybody's need – but not for everybody's greed."

    Mahatma Gandhi ji always pointed out that morality and ethics should guide our conduct in business, management, industry, finance and life.

    Mahatma Gandhi ji totally discarded the concept of capitalism by saying that free market without ethical and moral principle lead to the exploitation. Under capitalist system, the rich become richer and the poor become poorer. The gap between the rich and the poor continues to increase. The wealth centralised into few hands and rest lives on hands to mouth. For solving this situation of capitalism, he propounded a theory of trusteeship. He often said that his theory of trusteeship would finish capitalism without finishing the capitalist. He suggested the capitalists to voluntarily renounce their property and become trustees of their property. According to him, this is the only way of bringing socialism by peaceful and non-violent means.

Competition And Morality

    There is a concept that state should own every property and all business should be directly governed by the government while the least opportunities should be given to the public. This system is also known as communistic system. In this type of state, there is no scope of competition, so there is a lesser chance for progress, as it is said, competition is the basis of progress.

    Another concept says that the role of the market forces in a competitive environment should be supreme. Under this system it is demanded that every thing should be left on the market forces while the government should work as an organiser only. Under this system, a cutthroat competition is being found, and government do not have any right to check it. In this stream, only big fishes can swim. The least morality is being found under this system, because every one wants to over take others and government does nothing. This system is known as capitalistic economy.

    The system of Mixed Economy is being developed by analysis the merits and demerits of communist and capitalist economies. Under this system both government and market forces play vital roles. In this system, government may have monopoly in few fields but private sector is not allowed to have monopoly otherwise they may exploit the opportunities and the ultimate losers would be the general public. Under this system, the production and distribution of essential products must be concentrated in the hands of government, private sector may have a helping hands in this, as in the case of Public Distribution System (PDS).

Causes Of Unethicalness

    In the present world situation, every one is very much causes about fundamental rights for human beings. There are many Human Rights Commissions for the purpose. Beside this, no one bother about human duties. Majority is even not aware about fundamental duties but they start agitation if there is any violation of fundamental rights. If every one start fulfilling there will not be any such problem and some department, like consumer forum will become worthless.

Dharma: The Ultimate Precaution And Cure

    We Indians are blindly adopting the western footsteps for development, this is the main reason of today's increasing unethicalness in the society. The westernisation has changed the meaning of Dharma as Religion, while it is a narrow view of Dharma. The actual sense of Dharma is the moral duties for human beings. The term Dharma incorporate all moral and ethical codes of conduct for individuals while religion means code of conduct for religious purpose only. Dharma of all individuals remains same in all walks of life and conditions while the code of conduct for religion keeps on changing the religion.

    The Manusmrti (in II.1) gives the following general definition of Dharma, 'Know Dharma to be that which is practiced by the learned that lead a moral life, that are free from hatred and partiality, and that is accepted by their hearts (i.e., consciences)'

    Majority of the human beings is just following the religious code of conduct, which are different for different religions. Only a few one try to abide by the Dharma of human being, we can quote a name Mahatma Gandhi who followed the Dharma instead of Religion.

    Adoption of Dharma is the only way of bringing morality and ethicalness into business. For this purpose, we need a total revolution in the society, right from the grass root level, as it is said, "Nations like trees grow from their roots". Our education system should incorporate moral and ethical education since 1st standard to spread healthy code of conduct. This will help in improving business ethics in future.

    These all are possible in case we get selfless ideal leaders, i.e., the political front of the country must be working for the ultimate welfare of the society.



Barnard, C.I. (1958), "Elementary Conditions of Business Morals", California Management Review, Vol. 1, p.4.

Gupta, A.D. (1995), "Economic Management and Ethics: The Vedantic Answer", Indian Journal of Public Administration, Vol. 41(3), p.307-315.

Riesman, David (1950), "The Lonely Crowed", Yale University Press.

मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

१ बार मुस्कुरा २

एक गाँव के सरपंच ने पानी सप्लाई के अफसर से शिकायत की, "हमारे गाँव मे कई दिनो से पानी नही आ रहा है, जिसकी वजह से गाँव के लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पडता है।"
अफसर -"देखो सरपंच साहब, मै आप की बात बिल्कुल नही मान सकता कि आपके गांव मे कई दिनो से पानी नही आ रहा है।"
सरपंच- "क्यो नही मान सकते?"
अफसर - "क्योकि आप के गांव का दूध वाला मुझे हर रोज़ पानी मिला दूध दे कर जाता है।"

मंगलवार, 20 अक्तूबर 2009

१ बार मुस्कुरा २

भिखारी- मैं बहुत लाचार हूं, कुछ खाने को दे दीजिए।

महिला - हट्टे-कट्टे तो दिख रहे हो। हाथ-पैर भी सलामत हैं। फिर किस बात से लाचार हो?

भिखारी- जी अपनी आदत से।

शनिवार, 17 अक्तूबर 2009

हार्दिक शुभ कामनाएँ

"आपका अपना ब्लागॅ" अपने सभी पाठकों को ........

........दिपावली की तहे-दिल से शुभ कामनाएँ देता है

गुरुवार, 15 अक्तूबर 2009

१ बार मुस्कुरा २

टैक्सी से उतरते हुए देख सांता सिंह से एक पड़ोसी ने पूछा : बेटा कहाँ से आ रहे हो, कहीं बाहर गए थे क्या?
सांता सिंह : नहीं अंकल! मैं तो 'वॉक व्हेन यू टॉक' विज्ञापन से प्रभावित होकर अपनी फ्रेंड से बात करते-करते 8-10 किलोमीटर दूर चला गया था...।, वापस आने के लिए जब कोई फोन कॉल नहीं आया तो टैक्सी पकड़ना पड़ा ।

Gainers/Losers at NSE (14/10/2009)

Top 10 GAINERS at NSE (14/10/2009)

1. PTC India Ltd.
2. Teledata Technology Solutions Ltd.
3. Compulink Systems Ltd.
4. Ador Welding Ltd.
5. Dewan Housing Finance Corporation Ltd.
6. Banco Products (India) Ltd.
7. Subros Ltd.
8. Bajaj Auto Finance Ltd.
9. Sesa Goa Ltd.
10. Shanthi Gears Ltd.

Top 10 LOSERS at NSE (14/10/2009)

1. Gokul Refoils & Solvent Ltd.
2. Numeric Power Systems Ltd.
3. Patspin India Ltd.
4. Jet Airways (India) Ltd.
5. Reliance Communications Ltd.
6. Kingfisher Airlines Ltd.
7. Treadsdirect Ltd.
8. Tainwala Chemicals & Plastics (India) Ltd.
9. Pearl Engineering Polymers Ltd. 4.45
10. Madhav Marbles & Granites Ltd.

मंगलवार, 13 अक्तूबर 2009

१ बार मुस्कुरा २

संता - तुम मुझे गुस्सा मत दिलाओ, वरना मेरे अंदर का जानवर जाग जाएगा।
बंता - जागने दो, भला चूहे से भी कोई डरता है।

सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

Gainers/Losers at NSE (12/10/2009)

Top 10 GAINERS at NSE (12/10/2009)
1. Teledata Technology Solutions Ltd.
2. Madhav Marbles & Granites Ltd.
3. TTK Prestige Ltd.
4. Mahindra & Mahindra Financial Services Ltd.
5. Gokul Refoils & Solvent Ltd.
6. ISMT Ltd.
7. Revathi Equipment Ltd.
8. Bell Ceramics Ltd.
9. Maral Overseas Ltd.
10. Anik Industries Ltd.

Top 10 LOSERS at NSE (12/10/2009)
1. Hilton Metal Forging Ltd.
2. Soma Textiles & Industries Ltd.
3. EIH Ltd.
4. KDL Biotech Ltd.
5. McLeod Russel (India) Ltd.
6. Treadsdirect Ltd.
7. Regency Ceramics Ltd.
8. Shree Ganesh Forgings Ltd.
9. Core Emballage Ltd.
10. Ramkrishna Forgings Ltd

रविवार, 11 अक्तूबर 2009

बार-बार दिन ये आए......

The Biggest Star.....
.......... so far

“आप का अपना ब्लॉग” अमिताभ बच्चन के जन्म दिन पर सभी फिल्म देखने वालों को मुबारकबाद देता है !!!!!

शनिवार, 10 अक्तूबर 2009

१ बार मुस्कुरा २

एक साहब जी घबराए हुए आये और बीवी से बोले-”मैं दफ्तर से आ रहा था कि रास्ते में एक गधा ……!”
इतने में उनकी बच्ची बोल उठी-”मम्मी! बबलू ने मेरी गन तोड़ दी है !”पति ने फिर कहना शुरू किया -”हां तों मैं कह रहा था कि रास्ते में एक गधा …….!
इतने में उनका लड़का बोला -”मम्मी !बबलू ने मेरी कार तोड़ दी है !”
बीवी झल्लाकर बोली - ”ईश्वर के लिए तुम सब चुप हो जाओ, मुझे पहले गधे की बात सुन लेने दो !”

१ बार मुस्कुरा २

शमशेर सिंह ट्रेन के लाइनमैन की नौकरी के लिए इन्टरव्यू देने गया। उससे पूछा
इन्टरव्यूवर : शमशेर सिंह, मान लो तुम्हे पता चलता है कि तुम्हारे ट्रेक पर दो
रेलगाडियां विपरीत दिशा से आ रही है और उनमे टक्कर होने वाली है तो तुम क्या
शमशेर सिंह: मै किसी एक ट्रेन को दूसरी लाइन पर स्विच कर
इन्टरव्यूवर : अगर लीवर काम नही कर रहा हो तो?
शमशेर सिंह: तो मै हाथ से
लीवर को खींचने की कोशिश करूंगा।
इन्टरव्यूवर :अगर वो भी काम नही किया
शमशेर सिंह: मै दोनो तरफ़ के स्टेशन मास्टर को खबर करूंगा।
इन्टरव्यूवर :अगर
फोन भी काम नही कर रहा हो तो?
शमशेर सिंह: मै लाल कपड़ा लेकर ट्रेक पर खड़ा हो
इन्टरव्यूवर : अगर उस समय कोई लाल कपड़ा नही मिला तो?
शमशेर सिंह: फिर
मै अपनी बीबी प्रीतो, को बुलाऊंगा।
इन्टरव्यूवर :क्यों क्या वो कोई इन्जीनियर
शमशेर सिंह: नही, उसने कभी रेलगाड़ियों की टक्कर नही देखी ना।

सोमवार, 5 अक्तूबर 2009

१ बार मुस्कुरा २

राहुल गाँधी :- मम्मी, आपकी वजह से मेरी शादी नही हो पा रही..
सोनिया गाँधी :- ऐसा क्यों बेटा?
राहुल गाँधी :- हर तरफ़ तो लिखा है की सोनिया गाँधी को बहुमत दो!

Gainers/Losers at NSE (05/10/2009)

Top 10 GAINERS at NSE (05/10/2009)

  1. Novopan Industries Ltd.
  2. Alchemist Ltd.     
  3. Minda Industries Ltd.     
  4. Koutons Retail India Ltd.     
  5. Jet Airways (India) Ltd.     
  6. Tips Industries Ltd.     
  7. Bhagyanagar India Ltd.
  8. United Breweries (Holdings) Ltd.
  9. Seshasayee Paper & Boards Ltd.     
  10. Adhunik Metaliks Ltd.

Top 10 LOSERS at NSE (05/10/2009)

  1. Shree Ashtavinayak Cine Vision Ltd.
  2. Paper Products Ltd.     
  3. Mangalam Timber Products Ltd.
  4. Pudumjee Pulp & Paper Mills Ltd.     
  5. Bharti Airtel Ltd.     
  6. Tainwala Chemicals & Plastics (India) Ltd.     
  7. Teledata Technology Solutions Ltd.     
  8. Lakshmi Vilas Bank Ltd.     
  9. Lyka Labs Ltd.
  10. Amit Spinning Industries Ltd.

रविवार, 4 अक्तूबर 2009

१ बार मुस्कुरा २

संता सिंह की नई नौकरी लगी।
पहले दिन संता ने बहुत देर तक काम किया।
देर रात तक उसकी टेबल से खटर-पटर की आवाज आती रही।
संता का बॉस उससे बड़ा खुश हुआ।
अगले दिन बॉस ने संता को अपने केबिन में बुलाकर पूछाः कल तुमने देर रात तक क्या किया?
संताः कुछ नहीं सर, दरअसल की-बोर्ड के एल्फाबेट्स क्रम में नहीं थे... उन्हीं को ठीक कर रहा था।

शनिवार, 3 अक्तूबर 2009

Subscribe to updates

१ बार मुस्कुरा २

बेटा ,"पापा, ज्यादा काबिल कौन है, मैं या आप?"

पिता , " मै, क्योकि मैं एक तो तुम्हारा पापा हुँ, दुसरे उम्र मे भी तुम से बडा हुँ और मेरा तजुर्बा भी तुम से ज्यादा है।"

बेटा , "फ़िर तो आप जानते होगें कि अमेरिका की खोज किस ने की थी? "

पिता , "कोलम्बस ने की थी"

बेटा, "कोलम्बस के पापा ने क्यों नही की, उसका तजुर्बा तो कोलम्बस से कही ज्यादा होगी?"

शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2009

महात्मा गाँधी कि भारत यात्रा

(मैं नही जानता कि मैं इसे हास्य कहूँ या व्यंग, इसे गद्य कहूँ या पद्य, व्यथा कहूँ या अभिलाषा, सम्वेदना कहूँ या अभिव्यक्ति, चिंता कहूँ या चिंतन, लेकिन ये विचार मुझे आज से ठीक 12 वर्ष पहले आया था, जिसे मैंने कलमबद्ध तो उसी समय कर दिया था, एक मंच से पढा भी था, लेकिन उसके बाद से यह मेरे जेहन में कहीं दबा हुआ था। आज महात्मा गाँधी जी का जन्मदिन है, और मुझे लगता है आज सही वक्त है इसे पुन: अभिव्यक्त करने का। इस लेख में पात्रों को व्यक्ति विशेष के रूप में न देखा जाना चाहिए बल्की भावना को समझने कि चेष्टा होनी चाहिए और इसी सन्दर्भ में मैं आप सबकी राय भी जानना चाहुँगा)

जैसे ही महात्मा गाँधी जी अखबार उठाए

मायावती द्वारा खुद के नाम पर प्रहार पाए

सो वह तुरंत पहुंचे ‘बी.एम.डब्लू’ के घर

वहां उनका नौकर बोला बैठीए, बहन जी हैं अन्दर

‘बहन माया वती’ आते ही पकड़ लीं गाँधी जी के पैर

और बोलीं आशिर्वाद दीजीए

गाँधी जी बोले पैर छोड़िए पहले मुझसे बात कीजिए,

पहले मेरी इस शंका का निवारण कीजिए,

खबरों से तो लगता है आप हैं मुझसे नाराज़ सख्त,

लेकिन अभी तो लग रहा है आप हैं मेरी परम भक्त

सुन कर यह बात मायावती मुस्काईं, थोड़ा सकुचाईं

और दबी आवाज़ में गाँधी जी को सच्चाई बतलाईं

बोलीं, मैनें इसलिए प्रकट किया आपका आभार

क्योंकि आप ही हैं मेरे राजनीतिक जीवन का आधार।

चँद दिनों पहले मुझे जानता नहीं था कोई,

और आज मेरे पीछे है विधायकों की फौज,

इतने कम समय में प्रसिद्धी पाना, मेरी ही है मौलिक खोज।

आमतौर पर सभी आप को पूजते हैं,

सो मैनें सबसे अलग हट कर आपको दी गाली,

इस वजह से मुझे खबरों में मिली सुर्खी

और आज सोने-चाँदी से भरी है मेरी थाली।

इसीलिए मैंने कहा, आप ही हैं मेरे राजनीतिक जीवन का आधार,

अब आप जो सज़ा दें, वो है मेरे लिए सिरोधार

अपने राजनीतिक आराध्य को गाली देना मुझे भी खलता है,

पर क्या करें आज-कल राजनीति में सब चलता है

मायावती से मिल कर गाँधी जी पहुँचे उस पार्टी के पास,

जिस पार्टी का उन्होने मरते दम तक दिया था साथ।

पार्टी के दफ्तर कि दीवार पर टंगी थी महात्मा गाँधी की तस्वीर

जिसपे पड़ी थी एक ताज़े फूलों की माला,

और उस तस्वीर के पीछे छिपा था धन काला।

उन्हे न पहचानते हुए एक बड़े नेता ने पुछा कौन?

महात्मा गाँधी खड़े रहे मौन।

वह नेता पुन: बोला किससे मिलना है, बोलो क्या काम है?

गाँधी जी बोले, शायद इसीलिए है कांग्रेस इतनी बदनाम

बोले, तुम मेरे नाम से करते हो अपनी राजनीति का व्यापार

और मुझे ही पहचानने से करते हो इंकार?

मुझे गाली देने वालों से राजनीतिक तालमेल करते हो

और सत्ता में आने पर घोटाले और गोलमाल करते हो,

शर्म नहीं आती, कांग्रेसी हो कर भी पैसे पर मरते हो?

इतना सुन कर बोला वह कांग्रेसी नेता

आप को अन्दर आते तो किसी ने नहीं न देखा?

अब आप चुपचाप पिछले रास्ते से हो जाइए नौ-दो-ग्यारह

और कृपया इधर बीच यहाँ न आइयेगा दोबारा।

कहीं-कहीं हमारा ब.स.पा. से समझौता है

आप को यहाँ देख कर हमारा सम्बन्ध खराब हो सकता है।

ऐसा नहीं है कि हम आप की इज्जत नहीं करते हैं

लेकिन क्या करें मायावती से डरते हैं।

न चाहते हुए भी हमारा ब.स.पा. से समझौता है,

क्योंकि ऐसा बुरा दौर बड़ी मुश्किल से टलता है,

और आज-कल राजनीति में सब चलता है

कांग्रेस जैसी बड़ी पार्टी का देख कर यह हाल

महात्मा गाँधी हो गए बदहाल,

अब काफी थकी हुई सी लग र्ही थी उनकी चाल।

तभी दिखा उन्हे भा.ज.पा. का दफ्तर,

उसकी भव्यता देख कर उन्हे आने लगा चक्कर,

एक धर्म-निर्पेक्ष देश में धर्म के ठेकेदारों की ये शान?

वाह-रे इस देश कि जनता, वाह-रे मेरे देश महान।

इनका पहला नारा है स्वदेशी,

और पैर में पहनें जूते का फीता भी है विदेशी।

इनका जो भी है, सब है दिखावा,

चाहे हो इनका चरित्र, चाहे पहनावा।

ऐसा दल देख कर ये दिल जलता है,

पर क्या करें, आज राजनीति में यही चलता है।

वहाँ से आगे बढे तो मिला एम. एस. यादव का घर

यानी, समाजवादी पार्टी का मुख्य सदर,

बाहर समाज भूख से तड़प रहा था,

और अन्दर समाजवादी नेता पेट-पूजा कर रहा था।

यह दृश्य देख कर महात्मा गाँधी रह गये दंग,

क्या ऐसा ही होता है समाजवादी नेता का रंग-ढंग !

उन्होने पुछा, क्या आप विश्वास रखते हैं समाजवाद में?

भोजन से बिना हटाए ध्यान, मुलायम ने दिया जवाब,

हाँ, हम विश्वास करते हैं इस बात में, कि पहले हम, समाज बाद में

आज के दौर का समाजवादी नेता ऐसे ही पलता है,

और आज-कल राजनीति में सब चलता है

महात्मा गाँधी एक जगह बैठ गए हो के उदास,

तभी ‘भारतेन्दु’ पहुँच गए उनके पास।

मैंने उनसे पूछ, आप लग रहें हैं परेशान

सुनते ही गाँधी जी हो गए हैरान, गुस्से में बोले,

यदि आज राजनीति में यही चलता है,

तो क्यों नहीं तू अपना नेता बदलता है?

मैनें उन्हे समझाया, चिंता छोड़ीये, न हों परेशान

आज का यूवा वर्ग है आशावान,

कि बहुत जल्द ही ढलने वाली है भ्रष्टाचार की शाम

और जल्द ही एक नया सवेरा होगा,

जिसमें सिर्फ अमन और इमान का बसेरा होगा।

ये ठीक है कि आज राजनीति में यही चलता है,

लेकिन इतिहास गवाह है, वक्त हमेशा बदलता है॥