कुछ मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
आईज़ोल, मिज़ोरम, भारत
अब अपने बारे में मैं क्या बताऊँ, मैं कोई भीड़ से अलग शख्सियत तो हूँ नहीं। मेरी पहचान उतनी ही है जितनी आप की होगी, या शायद उससे भी कम। और आज के जमाने में किसको फुरसत है भीड़ में खड़े आदमी को जानने की। तो भईया, अगर आप सच में मुझे जानना चाहते हैं तो बस आईने में खुद के अक्स में छिपे इंसान को पहचानने कि कोशिश कीजिए, शायद वो मेरे जैसा ही हो!!!

पृष्ठ

बुधवार, 25 मई 2011

यह पुरूषो कि दुनियां है


भारत में शासन चलता है.........
दक्षिण में  अम्मा (जयललिता)  का
पुर्व में दीदी (ममता बनर्जी) का
उत्तर में बहन जी (मायावती) का
दिल्ली में आण्टी (शीला दिक्षित) का
केंद्र में मैडम (सोनियां गांधी) का
सबसे ऊपर, नानी (राष्ट्रपति) का


और घर में ......  बीबी का...
फिर भी लोग कहते हैं यह पुरूषो कि दुनियां है

4 टिप्‍पणियां:

  1. धन्यवाद, आपका ब्लाग पर स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब भारतेंदु जी.... सच कहिये तो भले हम कहे कि " यह पुरुषों दुनिया हैं..." पर सत्यवचन तो यही है की दुनिया पुरुषों की ही हैं पर राज़ महिलावों का होता है..पुरुष तो बस ल्क्स्ज़री कार का ड्राईवर होता है जिस पे सवार महिला को यत्र तत्र दुनिया दर्शन करवाता है. पुरुष तो गृहस्थी की नैया का खेवैया है जिस पे नारी को जाने अनजाने में चढा लेता है और भाव सागर में खेव्ता रहता है....

    संजय
    http://chaupal-ashu.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. संजय जी ब्लाग पर आगमन पर आप का स्वागत है। आप के शब्दों में यथार्थ नज़र आता है।

    उत्तर देंहटाएं